जिरह पढ़ें, आप अपनी लिपि में (Read JIRAH in your own script)

Hindi Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam

 
जिरह करने की कोई उम्र नहीं होती। पर यह सच है कि जिरह करने से पैदा हुई बातों की उम्र बेहद लंबी होती है। इसलिए इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है। आइए,शुरू करें जिरह।
'जिरह' की किसी पोस्ट पर कमेंट करने के लिए यहां रोमन में लिखें अपनी बात। स्पेसबार दबाते ही वह देवनागरी लिपि में तब्दील होती दिखेगी।

Wednesday, January 23, 2008

एक भद्र नागरिक का आत्मनिवेदन

पहले भी उसे
कई बार देखा है
कभी रामनामी बेचते
तो कभी तुलसी सुखाते
पर शायद उसे नहीं मालूम
कि पेट की खातिर
ऐसा कुछ भी करना
बेटी की दलाली करने से
ज़्यादा ख़तरनाक है।
चंद टुच्चे भी उसके साथ हैं
हर का अपना स्वार्थ है।
अपना समाज है।
लाठी के बल पर
बची हुई उसकी नाक है।

कुंद दिमाग का
वह ऐसा पगला है
कि लुच्चों की पंक्ति में
सबसे अगला है
जब भी बातें हुई हैं उससे
मेरे हाथ अकड़ने लगे हैं
अपनी असमर्थता
अपनी सीमा को जान कर
कि बाप, मां, भाई, बहन
कुल जमा पूंजी यही है मेरे पास
हां, सिर्फ़ यही चार
और अपने आक्रोश का गला
घोंट देता हूं हरबार।

मैं देख रहा हूं
कि मेरा निशाना चूक रहा है।
मैं जान रहा हूं
कि इन स्थितियों में
मेरा गुस्सा सिर्फ़ नपुंसक है।
वह किसी आग को
पैदा नहीं कर सकता
और न ही किसी बर्फ़ को
गला सकता है
एकमात्र यही वजह है
कि मैं घबरा रहा हूं
इस आशंका से पीड़ित होकर
कि वह मुझे हिला सकता है।

मैं देख रहा हूं
तुम सबों की आंखों में
कि उसकी आंखों में
जो सूअर का बाल दिखता था
वह तुम्हारी आंखों में
क्यों है।
संभव है
उस शहरी-गंवार के पक्ष में
तुम कई तर्क ढूंढ़ सकते हो।
लेकिन आखिरी सच यही है
कि आदमी की बनावट का हर चेहरा
आदमी नहीं होता।
और जानवर होने के लिए
पूंछ का होना जरूरी नहीं।

सुनो,
बरसाती नाले से
हमारा शहर तबाह हो
इससे पहले चलो
उसकी दिशा हम मोड़ दें।
जरूरत पड़े तो
हर कमीने की टांगें तोड़ दें।

वह जब भी
किसी संगीन मुद्दे पर
कुछ कहता है
उसके होठ बजबजाते हैं
उसके शब्दों से लार टपकती है
और मेरा जी चाहता है
कि अपने दोस्तों से कहूं
कि उठाओ पत्थर
और दिखाओ उसकी ललाट पर
एक बड़ा-सा गूमड़।

सचमुच, अपनी शालीनता से
कोफ़्त होने लगी है
जबकि मैं
पूरे मिजाज़ में हूं
कि उसके सिर का इस्तेमाल
तबले की तरह करूं
और उसके साथ जो तबलची हैं
उनमें खलबली है
कि एक बिच्छू
कहां से चढ़ आया
जबकि सेज मखमली है।
अब जाकर
किसी भी फूहड़ भाषण पर
मेज़ थपथपाने का सिलसिला रुका है
मुझे लगता है
कि उसकी ज़िंदगी ठीक इसी तरह रुकी है।

मेरी निगाहें देख रही हैं
कि यह आदमी तो कतई नहीं है
आधा तीतर है - आधा बटेर है
तुम्हें भ्रम हो सकता है
कि यह गदहा
शेर है।
यही तो समय का फेर है
तुम्हारी आंखें
मोतियाबिंद का शिकार हुई हैं
तुम नहीं पहचान पा रहे हो
कि कौन दुश्मन है
और कौन दोस्त
और तब तक बहुत देर हो चुकी होगी,
अफसोस भी करोगे
जब तुम्हें पता चलेगा
कि दुश्मनों के साथ मिलकर
तुम खाते रहे इंसानियत का गोश्त।

बिल्कुल सच है
कि वह बददिमाग
हमारा सिर बन चुका है
और हमें
हमारे ख़िलाफ ही भड़का रहा है।

(प्रसारित/प्रकाशित)

3 comments:

www.medianowonline.com said...

touching poetry. Yaar, yeh kavita-en hain ya koi jadoo? Sachmuch jadoo sa kar dia hai...keep it up. Excellent blog...

rajesh said...

a great poetry on me

thanks a lot

गुस्ताख़ said...

शानदार कविता है। मज़ा आया।