जिरह पढ़ें, आप अपनी लिपि में (Read JIRAH in your own script)

Hindi Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam

 
जिरह करने की कोई उम्र नहीं होती। पर यह सच है कि जिरह करने से पैदा हुई बातों की उम्र बेहद लंबी होती है। इसलिए इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है। आइए,शुरू करें जिरह।
'जिरह' की किसी पोस्ट पर कमेंट करने के लिए यहां रोमन में लिखें अपनी बात। स्पेसबार दबाते ही वह देवनागरी लिपि में तब्दील होती दिखेगी।

Monday, March 10, 2008

बोये जाते हैं बेटे

नंदकिशोर हटवाल जी की यह कविता मुझे पढ़वाई थी मेरे साथी मञ्जुल ने। उस वक्त के बाद मैंने न जाने कितने लोगों को और कई-कई बार यह कविता सुनाई और पढ़वाई। हटवाल जी को मैं निजी तौर पर नहीं जानता। उनके बारे में मेरे पास कोई जानकारी नहीं। सचमुच यह मेरा छोटापन है कि जिस कविता से इतना लगाव हो, उसके रचनाकार के बारे में आप न जानें। पर उन्हें मैं उनकी इस अद्भुत रचना के लिए हृदय से धन्यवाद देता हूं।


बोये जाते हैं बेटे
और उग आती हैं बेटियां

खाद-पानी बेटों में
और लहलहाती हैं बेटियां

एवरेस्ट की ऊंचाइयों तक ठेले जाते हैं बेटे
और चढ़ आती हैं बेटियां

कई बार गिरते हैं बेटे
और संभल जाती हैं बेटियां

भविष्य का स्वप्न दिखाते बेटे
यथार्थ दिखाती बेटियां

रुलाते हैं बेटे
और रोती हैं बेटियां

जीवन तो बेटों का है
और मारी जाती हैं बेटियां

- नंदकिशोर हटवाल

7 comments:

परमजीत बाली said...

सच मे बहुत बेहतरीन रचना है।

Ek ziddi dhun said...

itni maari jaati hain, phir bhi, kambakht har taraf apna hak mangti dikhai deti hain...

मीत said...

बहुत बढ़िया है अनुराग भाई.. शुक्रिया

manjula said...

क्‍या करें ढीठ जो हैं हम. और यह ढिठाई सर आंखों पर

Reetesh Gupta said...

बहुत अच्छी है आपकी कविता ...और उतनी ही सच्ची भी...बधाई

priyankas said...

मन को छूनेवाली कविता है यह.

Sheetal Tewari said...

badiya...