जिरह पढ़ें, आप अपनी लिपि में (Read JIRAH in your own script)

Hindi Roman(Eng) Gujarati Bangla Oriya Gurmukhi Telugu Tamil Kannada Malayalam

 
जिरह करने की कोई उम्र नहीं होती। पर यह सच है कि जिरह करने से पैदा हुई बातों की उम्र बेहद लंबी होती है। इसलिए इस ब्लॉग पर आपका स्वागत है। आइए,शुरू करें जिरह।
'जिरह' की किसी पोस्ट पर कमेंट करने के लिए यहां रोमन में लिखें अपनी बात। स्पेसबार दबाते ही वह देवनागरी लिपि में तब्दील होती दिखेगी।

Friday, April 17, 2009

मैंने रंजू की कविता चुराई

आज मैंने रंजना भाटिया की कविता चुरा ली। वह कविता जो उन्होंने अपने ...वें जन्मदिन (उम्र नहीं बतायी जाती) पर लिखी थी। उनकी ही कविता उन्हें जन्मदिन पर गिफ्ट कर रहा हूं।

18 comments:

रंजना [रंजू भाटिया] said...

अनुराग जी आप मेरी सब कवितायें चुरा लें पर शर्त यही है कि उन सबको अपनी इसी खूबसूरत और प्रभावशाली आवाज़ का लिबास पहनना होगा :) अपने इस बार के जन्मदिन का बेहतरीन तोहफा लगा यह .... इतना प्यारा गिफ्ट देख कर दिल सच में अभिभूत हो गया ...आपकी आवाज़ कविता या गीत बोलते हुए बहुत ही प्रभावित करती है ... आपका तहे दिल से शुक्रिया ..

अल्पना वर्मा said...

error opening file..

sun nahin paye , ranju ji ke liye aap ki is gift ko.

बी एस पाबला said...

वाह क्या बात है।
बहुत ही सधे स्वर।

सच ही कहा जाता है , चोरी का गुड़ कुछ ज़्यादा ही मीठा लगता है :-)

Udan Tashtari said...

बेहतरीन तोहफा दिया भाई जी-आवाज में जादू है. कहीं कहीं स्ट्रिंग ओवर राइड कर रही है आवाज को.

Arvind Mishra said...

पुरकशिश आवाज !

अनिल कान्त : said...

bahut achchhi aawaz di hai aapne

मोहन वशिष्‍ठ said...

वाह अनुराग जी बहुत ही अच्‍छा उपहार दिया है आपने रंजू जी को बेहतरीन आपकी आवाज और कविता को बोलने की लय बेहतरीन काबिलेतारीफ है

Ek ziddi dhun said...

जन्मदिन मुबारक रंजू वाया जिरह

संगीता पुरी said...

वाह ... तवदीयं वस्‍तु गोविन्‍दम् तुभ्‍यमेव समर्पये ... बहुत बढिया तोहफा दिया रंजू जी को।

दिनेशराय द्विवेदी Dineshrai Dwivedi said...

अनुराग जी, पता न था आप इतनी अच्छी आवाज के स्वामी हैं।

रंजना said...

Waah ! Waah ! Waah !

iske shiva aur kuch nahi mere paas kahne ko.

सागर नाहर said...

इससे बढ़िया उपहार और क्या हो सकता था!
आपको इस पोस्ट के लिये और रंजनाजी को जन्मदिन के लिये बधाई।

pallavi trivedi said...

bahut sundar tohfa...sudar aawaz .

"मुकुल:प्रस्तोता:बावरे फकीरा " said...

भाई
क्या आवाज़ है
प्रभावी कविता के लिए
बधाइयां दौनों को ही

अविनाश वाचस्पति said...

जब नाम में है राग
तो आवाज में क्‍यों न सजेगा साज
अच्‍छा लगा यह नया राग
पर न बने यह राग विराग
बना रहे राग अनुराग।

shyam kori 'uday' said...

बहुत सुन्दर, प्रभावशाली, प्रसंशनीय प्रस्तुतिकरण है ।

उन्मुक्त said...

आवाज़ बेहतरीन है।

रंजना [रंजू भाटिया] said...

अनुराग जी जन्मदिन की बहुत बहुत बधाई ..:)